IB के अंकित शर्मा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, चौंकाने वाले खुलासे हुए

ताहिर हुसैन के घर के बाहर भी पत्थरों का जमावड़ा लगा हुआ है। हुसैन के घर के बाहर कई बोतलें और पेट्रोल बम पड़े हुए हैं। विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में उनकी इमारत की छतों पर भी पत्थर और बम देखे गए हैं। विदेशी मीडिया पोर्टल ‘वॉल स्ट्रीट जर्नल (WSJ)’ ने अपने लेख में लिखा है कि अंकित के भाई अंकुर ने बताया कि ‘जय श्री राम’ बोलते हुए आई मुस्लिम भीड़ ने अंकित की हत्या कर दी। अंकुर ने प्रोपेगेंडा पोर्टल की इस ख़बर को नकार दिया है। अंकुर ने ऑपइंडिया से बात करते हुए स्पष्ट कहा कि डब्ल्यूएसजे में उनके हवाले से जो बातें लिखी है वह उन्होंने कही ही नहीं है।

IB के अंकित शर्मा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट

अंकुर ने बताया कि गुरुवार (फरवरी 25, 2020) को उनके भाई अंकित ड्यूटी से लौट कर बाइक पार्क करने के बाद मोहल्ले के लोगों से बातचीत करने निकल गए। उन्होंने कहा था कि वे इलाक़े के लोगों को जानते हैं और दंगा रोकने में कामयाब होंगे। परिवार के लाख मना करने के बावजूद अंकित हिन्दुओं और मुस्लिमों- दोनों से ही बातचीत करने और उन्हें समझाने निकल गए। हालाँकि, हिन्दुओं ने तो अंकित की बात मान ली लेकिन मुस्लिम समुदाय शांति के लिए राजी नहीं हुआ। तभी ताहिर हुसैन के इमारत से पत्थरबाजी शुरू हो गई और मुस्लिम भीड़ ने अंकित को पकड़ कर घसीटना शुरू कर दिया। वे उन्हें पकड़ कर हुसैन की इमारत में ले गए।


IB officer अंकित शर्मा पोस्टमॉर्टम में क्या खुलासा हुआ ?

पोस्टमॉर्टम से पता चला है कि उसके शरीर पर चप्पू से 400 बार वार किए गए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद, पुलिस ने ताहिर हुसैन के खिलाफ धारा 302, 365, 201, 34 के तहत प्राथमिकी दर्ज की।

Delhi Violence 46 लोग मारे गए

दिल्ली हिंसा में अब तक 46 लोग मारे गए हैं जहां 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं। पुलिस के अनुसार, अब तक हिंसा के लगभग 334 मामले दर्ज किए गए हैं। हिंसक इलाकों में अभी भी पुलिस तैनात है। दिल्ली पुलिस ने लोगों से किसी भी अफवाहों से दूर रहने की अपील की है।

हत्या का आरोपी कौन है ? उसका क्या कहना है

ताहिर हुसैन पर IB  Officer अंकित शर्मा की हत्या का आरोप है। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा के संबंध में एक मामला भी दर्ज किया गया है। ताहिर पर आरोप है कि अंकित शर्मा को उसके घर के अंदर ले जाकर उसकी हत्या कर दी।

ताहिर हुसैन रोसे एवेन्यू कोर्ट पार्किंग में पंहुचा था। उसके बाद उन्हें क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ताहिर हुसैन की धरपकड़ कर ली। उससे अब पूछताछ की जाएगी। ताहिर का नाम दिल्ली हिंसा से जुड़े तीन मामलों में बताया गया है। टीम कई दिनों से उसकी तलाश कर रही थी, लेकिन वह फरार था।

ताहिर हुसैन ने एक न्यूज चैनल से खास बातचीत में उन्होंने सभी आरोपों से इनकार किया और कहा कि मैं डर गया था इसी लिए भाग गया था.

लोग राम नाम सत्य के बजाय बजा पर अलग नारे लगा रहे थे :

अंकित शर्मा की अंतिम यात्रा में उनके पार्थिव शरीर को ले जाने वाले लोग राम नाम सत्य के बजाय सीएए और एनआरसी के पक्ष में नारे लगा रहे थे। उनके अंतिम यात्रा में केंद्रीय मंत्री संजीव बलियान के साथ कई पुलिस बल शामिल थे।

IB अफसर अंकित शर्मा के भाई का क्या कहना है ?

अंकुर ने रतन लाल और अपने भाई की हत्या के बारे में बात करते हुए बताया कि अब ‘वो लोग’ पुलिस वालों को चुन-चुन कर मार रहे हैं। अंकित को भी इसीलिए मारा क्योंकि उन्होंने बताया कि वे एक आईबी ऑफिसर हैं। अंकित मोहल्ले में सबके पसंददीदा व्यक्ति थे और वो सभी से घुलमिल कर रहते थे। उनका शव नाले में क्षत-विक्षत अवस्था में मिला था। अंकुर ने बताया कि पोस्टमॉर्टम के बाद अंतिम संस्कार किया जाएगा। अंकुर ने कहा:

मेरे भाई अंकित शर्मा को ताहिर हुसैन ने मारा है। वो यहाँ दंगाइयों का सबसे बड़ा सरगना है। वही दंगे करवा रहा है। जब मेरे भाई को मुसलमान घसीटते हुए ले जा रहे थे, तब वही उन्हें निर्देश दे रहा था कि क्या और कैसे करना है। अरविंद केजरीवाल मेरे भाई को दंगाई साबित कर देंगे। मेरा भाई दंगाई नहीं था। वो एक सरकारी अधिकारी था, जो लोगों को समझा रहा था कि झगड़ा मत करो। वो दोनों तरफ के लोगों को जानता था, इसलिए उन्हें समझाने गया था।

अंकुर की माँग है कि उनके मृत भाई अंकित शर्मा को ‘शहीद’ का दर्जा मिले। अंकित के गर्दन और अन्य हिस्सों में कई जगह धारदार हथियार के वार से कटे हुए निशान मिले थे। अंकुर ने बताया कि मारने से पहले उन्हें काफ़ी टॉर्चर किया गया।

आपको क्या लगता है ? क्या ये ताहिर हुसैन बेगुनाह है ?
इसके साथ क्या करना चाहिए ? आपका उत्तर हमे कमेंट में बताये 


Post a Comment

0 Comments